भारतीय शास्त्रीय संगीत

शास्त्रीय संगीत - गायन
शास्त्रीय संगीत - वादन

शास्त्रीय संगीत भारतीय संगीत का अभिन्न अंग है। हर स्वर, ताल और रागों को पूरे नियमों के साथ पालन करके गाए जाने को भारत का शास्त्रीय संगीत या Classical Music कहते हैं। शास्त्रीय गायन स्वर-प्रधान होता है, शब्द-प्रधान नहीं। इसमें महत्व ध्वनि का होता है शब्द और अर्थ का विशेष महत्व नहीं होता। शास्त्रीय संगीत को अनुभवी कान ही समझ सकते हैं। अनेक लोग, खास कर young generation शास्त्रीय संगीत से जल्द ही ऊब जाते हैं पर इनके ऊबने का कारण शास्त्रीय संगीत या संगीतज्ञ की कमजोरी नहीं, लोगों में जानकारी की कमी है। शास्त्रीय संगीत भारतीय संगीत का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

 

हिंदुस्तान के किसी प्रकार के संगीत में निखार लाने के लिए शास्त्रीय संगीत बेहद जरूरी है। शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में अच्छी तरह से स्थापित और प्रतिष्ठित कलाकारों को कुछ खिताब जैसे 'उस्ताद' और 'पंडित' का सम्मान दिया जाता हैं। शास्त्रीय संगीत की शिक्षा के लिए भारत में कई विश्वविद्यालय हैें, जिनमें प्रमुख रूप से प्रयाग संगीत समिति (इलाहाबाद ), प्राचीन कला केंद्र (चंडीगढ़) तथा बंगीय संगीत परिषद (बंगाल) है, जिसके अधीन लगभग पूरे उत्तरी भारत में लोग शास्त्रीय संगीत की शिक्षा प्राप्त करते हैं और Diploma /Degree हासिल करते हैं। इन विश्वविद्यालयों से Degree /Diploma हासिल करने पर School, College या अन्य शैक्षणिक संस्थाओं में संगीत शिक्षक बन सकते हैं। देश-विदेश में कार्यक्रम प्रस्तुत कर सकते हैं, जिससे अच्छा खासा नाम, शोहरत और रोजगार कमा सकते हैं। भारत के स्वतंत्र होने के बाद से ही संगीत का प्रचार-प्रसार बढ़ गया है School/ Collage तथा पाठ्यक्रम में भी सम्मिलित हो गया, संगीत का प्रचार पूरे विश्व में दिन-ब-दिन बढ़ रहा है, जिसमें भारत सबसे आगे है। हमारी कोशिश होगी कि हमारी इस वेबसाइट www.bimma.in के माध्यम से लोगों को अधिक से अधिक शास्त्रीय संगीत की जानकारी प्राप्त हो। और, जिन लोगों को सम्पूर्ण शास्त्रीय संगीतज्ञ नहीं बनना है, जिनहे सिर्फ सफल गायक या वादक बनना है, उन लोगों को शास्त्रीय संगीतका ज्ञान देते हुए उतना ही अभ्यास कराना है, जितना की एक सफल गायक/वादक को होना चाहिए। जैसे-अलंकार का अभ्यास, रागों की पहचान, ताल की पहचान और स्वर को संवारने में निपुणता। हमारी इस वेबसाइट : www.bimma.in में सभी विश्वविद्यालयों के syllabus सिलेबस दिए गए हैं। इच्छुक व्यक्ति अपनी इच्छा के अनुसार इसका उपयोग कर सकते हैं। हम समय-समय पर अपने subscribers को और भी संबंधित जानकारी उपलब्ध कराते रहेंगे।

धन्यवाद !

Powered By Beeps Studio © 2019