Indian Classical 

Raaga Asawari
राग आसावरी

This is a very sweet morning Raag which is also referred to as Asawari Todi. It is similar to Raag Bilaskhani Todi except that in Aaroh, instead of Madhyam and Nishad Varjya, Gandhar and Nishad are Varjya. The Avroh is same with Pancham Varjya in both the Raags.This Raag belongs to Bhairavi Thaat. In Poorvang, Todi Ang appears like: S r g ; g r ; g r S and Asawari Ang appears in Uttarang. In this Raag, Shadj (Sa) is usually omitted in Avroh like: S' r' n d ; d S' r' g' r' n d. In this Raag Pancham is the Nyas Swar, however Pancham is skipped in Avroh, like S r m P ; P d P ; P d n d m g r ; r g r S. Although Nishad is Varjya in Aaroh, it is sometimes used as Anuwadi Swar like: r' n S r' g' or r ,n S r.

 


Aroha & Avaroha
The scale of Khamaj uses only Shuddh swaras.
Aroha     : S r m P d S'
Avaroha : S' r' n d m P d m g r g r ,n ,d r S

 

Vadi & Samavadi
Vadi           : Dhaivat

Samavadi : Rishabh

 

Pakad & Chalan

Chalan

S' r' n d P ; d m P ; m P n d P ; d m P ; (m)g r S.

 

Time

2nd Prahar of the day

 

 

 

यह एक बहुत ही मधुर दिन का राग है। इसे आसवारी तोड़ी भी कहा जाता है। यह राग बिलासखानी तोड़ी से मिलता जुलता राग है। पर राग बिलासखानी तोड़ी के आरोह में मध्यम व निषाद वर्ज्य हैं जबकी राग कोमल-रिषभ आसावरी में गंधार व निषाद वर्ज्य हैं। दोनों रागों में अवरोह में पंचम वर्ज्य हैं।यह भैरवी थाट का राग है। इस राग के पूर्वांग में राग तोड़ी जैसे स्वर सा रे१ ग१ ; ग१ रे१ ग१ रे१ सा लगते हैं और उत्तरांग में आसावरी अंग झलकता है। अवरोह में षड्ज (सा) को प्रायः नही लगाते जैसे - सा' रे१' नि१ ध१ ; ध१ सा' रे१' ग१' रे१' नि१ ध१। इस राग में पंचम न्यास स्वर है, परन्तु अवरोह में इसको छोड़ा जाता है, जैसे सा रे१ म प ; प ध१ प ; प ध१ नि१ ध१ म ग१ रे१ ; रे१ ग१ रे१ सा। इस राग में निषाद आरोह में वर्ज्य है परन्तु इसे कभी कभी अनुवादी स्वर के रूप में प्रयुक्त किया जाता है जैसे - रे१' नि१ सा रे१' ग१' या रे१ ,नि१ सा रे१।


आरोह एवं अवरोह 
आरोह     : सा रे१ म प ध१ सा'

अवरोह    : सा' रे१' नि१ ध१ म प ध१ म ग१ रे१ ग१ रे१ ,नि१ ,ध१ रे१ सा

 

वादी एवं संवादी 

धैवत

रिषभ

 

पकड़ एवं चलन 
पकड़ 

  1. सा' रे१' नि१ ध१ प ; ध१ म प ; म प नि१ ध१ प ; ध१ म प ; (म)ग१ रे१ सा।

 

समय 

दिन का दूसरा प्रहर

 

STUDENT'S ACTIVITIES

Demo by Students

Tutorial Audio

Instrumental - Ashawari

Training by Senior Faculty

Powered By Beeps Studio © 2019